सूचना

अपने बैंक नोटों के बारे में जानिए

करेंसी नोट(चलार्थ पत्र) राष्ट्र की समृद्ध एवं विविध संस्कृति, स्वतंत्रता के लिए उसके प्रयास एवं राष्ट्र के रूप में अपनी उपलब्धियों के प्रतिबिंब है।

देश की संस्कृति को हमारी पहचान से एकरूपता के लिए तथा उसकी वैज्ञानिक उन्नति के लिए नए डिजाइन वाली नई बैंक नोटों की श्रंखला को जारी किया गया है।

नए डिजाइन वाले बैंक नोट वर्तमान की महात्मा गांधी श्रंखला वाले बैंक नोटों से रंग, आकार, एवं विषय वस्तु आधार पर भिन्न है। नए बैंक नोट श्रंखला की थीम/विषय भारत के विरासत की है।

इन नोटों में देवनागरी में अंक लिखे हुए है, स्वच्छ भारत का लोगों आदि शामिल किए गए नए तत्वों में से कुछ है। नए नोटों में बहुत से डिजाइन तत्व एवं जटिल रूप और आकार भी मौजूद है।

बैंक नोटों की वर्तमान श्रृंखला में सुरक्षा विशेषताएं, जैसे वाटरमार्क, सुरक्षा धागा, मूल्य अंक की धुंधली छवि, रंग बदलने वाली स्याही में मूल्य अंक, संख्या पैनल, रजिस्टर, इलेक्ट्रो-प्रकार, ब्लीड लाइनों, आदि उपलब्ध हैं हालांकि नए डिजाइन के नोटों में उनके स्थान परस्पर बदल सकते हैं।

महात्मा गांधी (नई) श्रृंखला में नए ₹500 के नोट रंग, आकार विषय, सुरक्षा सुविधाओं के स्थान और डिजाइन तत्वों में वर्तमान श्रृंखला से भिन्न हैं। नए नोट का साइज 66mm x 150mm है। नोटों का रंग स्टोन ग्रे है और प्रमुख नया विषय भारतीय विरासत स्थल - लाल किला है।

भारतीय रिजर्व बैंक महात्मा गांधी (नई) श्रृंखला के हिस्से के रूप में ₹2000 के मूल्यवर्ग भारतीय रिजर्व बैंक महात्मा गांधी (नई) श्रृंखला के हिस्से के रूप में ₹2000 के मूल्यवर्ग में नए डिजाइन के बैंक नोट पेश कर रहा है। नए मूल्यवर्ग के पृष्ठभाग पर मंगलयान की आकृति है, जो अंतर्ग्रहीय अंतरिक्ष में देश के पहले उपक्रम को दर्शाती है। नोट का बेस कलर मैजेंटा है। नोट में अन्य डिज़ाइन, ज्यामितीय पैटर्न हैं जो समग्र रंग योजना के साथ संरेखित हैं, दोनों अग्रभाग और रिवर्स पर। नए नोट का साइज 66mm x 166mm है। . .

वार्षिक रिपोर्ट्स

आचार संहिता

एसपीएमसीआईएल, कॉर्पोरेट कार्यालय, नई दिल्ली (दिल्ली)      

सूचना - 03 जनवरी, 2022
एसपीएमसीआईएल, कॉर्पोरेट कार्यालय, नई दिल्ली (दिल्ली)      

सूचना - 31 दिसंबर, 2021
एसपीएमसीआईएल, कॉर्पोरेट कार्यालय, नई दिल्ली (दिल्ली)      

संदेश देखें

एसपीएमसीआईएल, कॉर्पोरेट कार्यालय, नई दिल्ली (दिल्ली)      

कोविड-19

सूचना

सूचना

सूचना

आरटीआई अनुरोध और उत्तर

Security Printing and Minting Corporation of India Limited (SPMCIL) was formed after corporatisation of nine units including four mints, four presses and one paper mill which were earlier functioning under the Ministry of Finance. The Company was incorporated on 13.01.2006 under the Companies Act, 1956 with its headquarters at 16th Floor, Jawahar Vyapar Bhawan, Janpath, New Delhi. SPMCIL, a Miniratna Category-I CPSE, and wholly owned Schedule “A” Company of Government of India, is engaged in the manufacture of security paper, minting of coins, printing of currency and bank notes, non-judicial stamp papers, postage stamps, travel documents, etc. The employees strength of SPMCIL is about 12600 in all its nine units. The Company has four Presses, four Mints and one Paper Mill to meet the requirements of RBI for Currency Notes and Coins and State Governments for Non-Judicial Stamp Papers and Postal Departments for postal stationery, stamps etc. and Ministry of External Affairs for passports, visa stickers and other travel documents. Other products are commemorative coins, MICR and Non-MICR cheques etc. SPMCIL has an asset base of ` 7000 crore and its sales turnover for the financial year 2011-12 increased to ` 3422.68 crore as against ` 3134.57 crore in last financial year. The Company is under the administrative control of Department of Economic Affairs, Ministry of Finance. It is headed by Chairman and Managing Director. All the 9 units of four production verticals i.e. Currency Printing Presses, Security Printing Presses, Security Paper Mill and India Government Mints headed by General Managers are industrial organizations and are regulated in accordance with the labour laws and directions of Government issued from time to time. The main activities of these units are as under:

Currency Printing Presses: Currency Note Press, Nashik Road and Bank Note Press, Dewas which are engaged in production of Bank Notes for our country as well as for foreign countries use state of the art technology. More than 40% of Currency Notes circulated in India are printed by these units. These units are equipped with designing, engraving, complete Pre-printing and Offset facilities, Intaglio Printing machines, Numbering & Finishing machines etc. Both the Currency Note Printing Presses are ISO 9001:2000 & ISO 14001:2004 certified units having fool-proof accounting of security items, stringent security systems with ultra-modern eco-friendly efficient treatment facilities and complemented by a service department to ensure maximum in-transit security. These units have captive railway treasury wagons / carriages for transporting the treasury consignments. These units have history of export of Bank Notes to countries like East Africa, Iraq, Nepal, Sri Lanka, Myanmar, Bhutan etc. The Bank Note Press Dewas also manufactures different types of security ink for various security organizations. Its production of inks for the year 2011-12 was 272.62 MT.

Security Printing Presses: Security Printing Presses have glorious history of more than 80 years employing specialized technology and multiple printing processes to produce security products under secure operating procedures and manufacturing protocols. These presses have the latest technological facilities for Designing, Pre-printing and Post-Printing. Security Printing Presses have the capability of incorporating security features like chemically reactive elements, various Guilloche patterns, micro lettering, designs with UV inks, bi-fluorescent inks, optical variable inks, micro perforation, adhesive/glue, embossing, die-cutting and personalization etc.

India Security Press, Nashik prints and supplies judicial/non-judicial stamp papers, all types of postal & non postal stamps & stationery, passports, visa & other travel documents, MICR & Non-MICR Cheques, Identity Cards, Railway Warrants, Income Tax Return Order Forms, Saving Instruments, commemorative stamps etc. These security documents are printed & supplied to various State Governments, Union Territories and Central Government departments including Department of Posts, Ministry of Finance, Ministry of External Affairs as well as RBI. It has entered other markets which require documents incorporated with security features and is developing new products as part of diversification. A specialized Forgery Detection Cell also caters to the demand of various law enforcement agencies and RBI. ISP has introduced E-Passport for the first time in India by undertaking production of official and diplomatic E-passports. ISP has successfully printed PAN Application Forms & Allied Stationery for UTI Technology Services and 11 Varieties of Certificates for RTO, Government of Chhattisgarh. Further, it has entered into MoU with Archaeological Survey of India to print and Supply Entry Tickets for various Monuments and another MoU has been signed with Nashik Municipal Corporation, Nashik to print and Supply Octroi receipts. It has printed tickets for Commonwealth Games 2010.

Security Printing Press, Hyderabad was established in the year 1982 to cater to the needs of the Central and various State Governments by printing and supplying security documents such as Postal Stationery items, Central Excise Stamps, Non-Judicial Stamps, Court Fee Stamps, Indian Postal Orders and Saving Instruments etc. It is equipped with modern pre-press plate-making systems and post-printing techniques with processing facility for Perforation, Numbering, UV Print Technology, Online envelope making, Inland Letters, Aerograms, Postal Stationery etc. It has bagged first-ever order for printing of warehouse forms from Haryana Warehouse Corporation. It has also incorporated security features in these forms by introducing Warehouse Logo as well as micro-text in invisible ink.

Security Paper Mill: Security Paper Mill (SPM), Hoshangabad was established in 1968 and notified as non-commercial undertaking. SPM, an ISO 9001:2000 unit is responsible for manufacturing of different types of Security Papers. Papers manufactured by this unit are used for printing of Currency Notes by CNP & BNP and for Non-Judicial Stamps being printed by ISP & SPP. SPM, Hoshangabad has the distinction of incorporating numerous security features in paper viz Fluorescence Fibres, Multi-tonal three Dimensional Watermark, Electrotype Watermark, various types of Security Threads, Tangents, etc. At SPM, the eco-friendly process and the energy conservation aspects are assigned the utmost importance. India Government Mints: The Mints are situated at Mumbai, Hyderabad, Kolkata and Noida and have rich minting heritage and legacy of producing quality products. These mints are carrying out minting of all coins circulated in the country. India Government Mints (IGM) offer comprehensive range of services covering every stage of the minting process – from planning to the finished products. Utilization of advanced technology, innovation, quality and reliable delivery methods are some of the components of strength of these mints. IGMs have made a niche in the minting world – with excellence in design, expertise in minting precious metals, and above all, a long tradition of craftsmanship. Reliability is combined in a natural manner in design and production of individualistic solution that truly reflect the customers’ values. Apart from minting of Circulation Coins, the IGMs also manufacture commemorative coins. Besides IGMs have trusted name in minting of items like Medallions and various bullion activities.

एसपीएमसीआईएल, कॉर्पोरेट कार्यालय, नई दिल्ली (दिल्ली)
कंपनी के अधिकारियों की शक्तियां संगठन में सभी स्तरों पर अच्छी तरह से परिभाषित हैं। समय-समय पर कार्य सौंपे जाते हैं।

एसपीएमसीआईएल, कॉर्पोरेट कार्यालय, नई दिल्ली (दिल्ली)

कंपनी का समग्र प्रबंधन कंपनी के निदेशक मंडल के पास है, जो कंपनी के भीतर सर्वोच्च निर्णय लेने वाला निकाय है। चूंकि एसपीएमसीआईएल एक सरकारी कंपनी है, निदेशक मंडल भारत सरकार के प्रति जवाबदेह है। बोर्ड की प्राथमिक भूमिका कंपनी की संपत्ति की रक्षा के लिए ट्रस्टीशिप की है और उत्पादन और उत्पादकता बढ़ाने वाले ऐसे निर्णय लेना है। बोर्ड कंपनी के रणनीतिक निर्देशों की देखरेख करता है, कॉर्पोरेट प्रदर्शन की समीक्षा करता है, रणनीतिक निर्णयों को अधिकृत और मॉनिटर करता है, नियामक अनुपालन सुनिश्चित करता है और कंपनी के हितों की रक्षा करता है। बोर्ड यह सुनिश्चित करता है कि कंपनी इस तरह से प्रबंधित हो जिससे हितधारकों की आकांक्षाओं को पूरा किया जा सके। कंपनी का दिन-प्रतिदिन का प्रबंधन अध्यक्ष एवं प्रबंध निदेशक को सौंपा गया है, जिसे कार्यात्मक निदेशकों और कंपनी के अन्य अधिकारियों और कर्मचारियों का समर्थन प्राप्त है। अपने कार्यों के प्रभावी निर्वहन के लिए, निदेशक मंडल ने अध्यक्ष एवं प्रबंध निदेशक को पर्याप्त शक्तियां प्रदान की हैं। अध्यक्ष एवं प्रबंध निदेशक, बदले में, कार्यात्मक निदेशकों/कार्यकारियों को उनके द्वारा उचित नियंत्रण बनाए रखने और ऐसी शर्तों के अधीन, जो ऐसे निदेशकों को सौंपी गई जिम्मेदारियों के त्वरित, प्रभावी और कुशल निर्वहन की आवश्यकता के अनुरूप हैं, के अधीन निर्दिष्ट शक्तियाँ सौंपते हैं। अधिकारी। अध्यक्ष एवं प्रबंध निदेशक निदेशक मंडल के प्रति जवाबदेह हैं। कार्यात्मक निदेशक अध्यक्ष एवं प्रबंध निदेशक के प्रति जवाबदेह होते हैं। कार्यकारी अधिकारी संबंधित कार्यात्मक निदेशकों के प्रति जवाबदेह हैं। कंपनी में निर्णय लेने की प्रक्रिया में निम्नलिखित चैनल शामिल हैं:

एसपीएमसीआईएल, कॉर्पोरेट कार्यालय, नई दिल्ली (दिल्ली)
SPMCIL हर साल आर्थिक मामलों के विभाग, वित्त मंत्रालय, भारत सरकार के साथ एक समझौता ज्ञापन में प्रवेश करता है। एमओयू में प्रदर्शन मानदंड शामिल हैं, जिसके आधार पर वर्ष के अंत में निगम के प्रदर्शन का मूल्यांकन किया जाता है। समझौता ज्ञापन प्रत्येक प्रदर्शन मानदंड के लिए लक्ष्यों और तुलनात्मक भार को भी इंगित करता है। वर्ष के अंत में प्रदर्शन का मूल्यांकन पांच-बिंदु पैमाने पर किया जाता है, 1 'उत्कृष्ट' का प्रतिनिधित्व करता है और 5 'खराब' का प्रतिनिधित्व करता है।
कंपनी ने लगातार तीन वर्षों के लिए 'उत्कृष्ट' एमओयू रेटिंग हासिल की है।

एसपीएमसीआईएल, कॉर्पोरेट कार्यालय, नई दिल्ली (दिल्ली)
कंपनी ने अपने कार्य संचालन के लिए नियम तैयार किए हैं। प्रमुख मार्गदर्शी दस्‍तावेजों की सूची निम्‍नलिखित है:-

• कंपनी के विधान और संघ का ज्ञापन

• आचरण, अनुशासन तथा अपील नियमावली

• प्रापण नियमावली

• कार्मिक नीति दस्‍तावेज

• सतर्कता मामलों संबंधी पुस्तिका

• लेखा नियमावली

• आंतरिक लेखा परीक्षा नियमावली

एसपीएमसीआईएल, कॉर्पोरेट कार्यालय, नई दिल्ली (दिल्ली)
कंपनी द्वारा या उसके नियंत्रण में रखे जा रहे दस्तावेजों की विभिन्न श्रेणियां नीचे दी गई हैं:
1. निगमन से संबंधित दस्तावेज
    1. मेमोरेंडम एंड आर्टिकल्स ऑफ एसोसिएशन
    2. कंपनी अधिनियम, 1956 के तहत वैधानिक रजिस्टर।
    3. अन्य लागू अधिनियमों और नियमों और विनियमों के तहत वैधानिक रजिस्टर।
   4. वार्षिक रिपोर्ट।
   5. वार्षिक रिटर्न।
   6. कंपनियों के रजिस्ट्रार, आदि के पास दायर रिटर्न और फॉर्म।
2. निदेशक मंडल की बैठकों से संबंधित दस्तावेज
   1. निदेशक मंडल की बैठकों की सूचनाएं और कार्यवृत्त पुस्तिका।
   2. आम सभा की बैठक की सूचनाएं और कार्यवृत्त।
3. खातों से संबंधित दस्तावेज:
   1. लेखा पुस्तकें
   2. तिमाही वित्तीय परिणामों का विवरण
   3. वार्षिक रिपोर्ट
   4. लेखा नियमावली
   5. आंतरिक लेखापरीक्षा नियमावली
   6. आयकर के भुगतान, स्रोतों पर कर कटौती आदि से संबंधित दस्तावेज।
   7. वाउचर, आदि।
4. स्थापना मामलों से संबंधित दस्तावेज
    1. कर्मचारियों के विवरण वाले दस्तावेज
    2. स्थापना मामलों से संबंधित विभिन्न आंतरिक नीतियां, नियम और विनियम
    3. कर्मचारियों की निष्पादन मूल्यांकन रिपोर्ट
    4. डीपीई दिशानिर्देशों के अनुपालन से संबंधित फाइलें और रिकॉर्ड
     5. सेवा नियम
     6. सीडीए नियम
5. Documents pertaining to legal matters –
     1. माननीय न्यायालयों, न्यायाधिकरणों आदि को प्रस्तुत याचिका, वाद, लिखित बयान और अन्य दस्तावेज।
     2. माननीय न्यायालयों के आदेश

एसपीएमसीआईएल, कॉर्पोरेट कार्यालय, नई दिल्ली (दिल्ली)
एसपीएमसीआईएल, निगम मुख्‍यालय, नई दिल्‍ली एसपीएमसीआईएल एक वाणिज्यिक संगठन है जो टकसालों, मुद्रणालयों तथा कागज कारखानों के निगमीकरण के उपरांत अस्तित्‍व में आया है। ये इकाइयां इससे पूर्व वित्‍त मंत्रालय के आर्थिक कार्य विभाग के अधीन कार्यरत थी। कंपनी द्वारा तैयार की गई नीतियां इसके आंतरिक प्रबंधन से संबंधित हैं। इसलिए इसकी आतंरिक नीतियों के तैयार करने से पूर्व जन प्रतिनिधियों से विचार-विमर्श करने की अवश्‍कयता नहीं है। इसकी सभी नीतियां सभी लागू नियम तथा विनियम आदि प्रावधानों के अनुपालन तथा पंजीकृत संघों से विचार-विमर्श करके तैयार की जाती है।

एसपीएमसीआईएल, कॉर्पोरेट कार्यालय, नई दिल्ली (दिल्ली)
बोर्डों, समितियों और अन्य निकायों की बैठकें जनता के लिए खुली नहीं होती हैं और कंपनी के व्यवसाय की प्रकृति को देखते हुए ऐसी बैठकों के कार्यवृत्त को जनता के लिए सुलभ नहीं बनाया जाता है।

एसपीएमसीआईएल, कॉर्पोरेट कार्यालय, नई दिल्ली (दिल्ली)      
उच्चाधिकारियों की सूची

एसपीएमसीआईएल, कॉर्पोरेट कार्यालय, नई दिल्ली (दिल्ली)
कंपनी प्रोफाइल, व्‍यवसाय, तिमाही वित्‍तीय कार्य निष्‍पादन, वार्षिक रिपोर्टस आदि से संबंधित जानकारी कंपनी द्वारा इलैक्‍ट्रोनिक अवस्‍था में रखी जाती है तथा यह कंपनी की वेबसाईट अर्थात् www.spmcil.com पर उपलब्‍ध है।

एसपीएमसीआईएल, कॉर्पोरेट कार्यालय, नई दिल्ली (दिल्ली)
कोई भी भारतीय नागरिक जो सूचना अधिकार अधिनियम के अंतर्गत किसी प्रकार की सूचना प्राप्‍त करना चाहता है तो वह जनसूचना अधिकारी/सहायक जनसूचना अधिकारी को आवेदन पत्र में लिखित में एक अनुरोध भेज सकता है। सार्वजनिक उपयोग के लिए कंपनी का कोई पुस्‍तकालय उपलब्‍ध नहीं है।

एसपीएमसीआईएल, कॉर्पोरेट कार्यालय, नई दिल्ली (दिल्ली)      
एफएए पीआईओ सूची

एसपीएमसीआईएल, कॉर्पोरेट कार्यालय, नई दिल्ली (दिल्ली)      
यहाँ क्लिक करें

मानव संसाधन

कार्यस्थल पर महिलाओं के यौन उत्पीड़न (रोकथाम, निषेध और निवारण) अधिनियम, 2013 के तहत आंतरिक शिकायत समिति (आईसीसी) का गठन

आंतरिक शिकायत समिति (आईसीसी) का गठन

• एक निगमित हस्ती के रूप में, एसपीएमसीआईएल में निष्पादन प्रेरित संस्कृति बनाने के लिए सतत् प्रयास चलते रहते हैं जिसमें सभी प्रणालियां कंपनी के सभी कर्मचारियों पर समान रूप से लागू होंगी ।

• संगठन में मानव संसाधन को विकसित करके तथा मानव परिसम्पत्तियों का अनुकूलतम उपयोग करके संगठन की क्षमता बढ़ाने के प्रयास निरंतर चलते रहते हैं तथा इसके लिए पहले से ही शुरुआत की जा चुकी है और यह कंपनी की बैलेंसशीट और निष्पादन से भी स्पष्ट है ।

• परिवर्तन का नेतृत्व मानव संसाधन शाखा के लिए एक विशाल कार्य और बड़ी चुनौती थी तथा निगम मानव संसाधन एसपीएमसीआईएल के कामकाज के हर स्तर पर संवेदनशीलता के साथ इस परिवर्तन प्रक्रिया की गति बढ़ाने के लिए एक प्रेरक शक्ति था ।

• निगमीकरण के बाद एसपीएमसीआईएल अल्प अवधि में एक सार्वजनिक उद्यम के रूप में काफी आगे बढ़ चुका है तथा एक निगमित हस्ती के रूप में कंपनी की सफलता की कहानी का उल्लेख अब कई व्यावसायिक मंचों पर किया जाता है ।

  • एसपीएमसीआईएल प्रशिक्षण कार्यक्रम वरिष्ठ अधिकारियों और जोखिम प्रबंधन के लिए
  • एसपीएमसीआईएल के शीर्ष द्विपक्षीय मंच की 7वीं बैठक
  • कर्मचारियों के लिए एसपीएमसीआईएल ऑफिस पुस्तिका
  • एनआईटीआईई द्वारा एसपीएमसीआईएल कार्यपालकों को प्रशिक्षण
  • एचआर लीडरशीप अवार्ड
  • पांचवी शीर्ष द्विपक्षीय बैठक
  • एसपीएमसीआईएल निष्पादन उत्कृष्ठता पुरस्कार

मानव संसाधन निदेर्श चिह्न परियोजना

• ''प्रज्ञान'' नामक ज्ञान मंच प्रतिभा तथा ज्ञान का मिश्रण है तथा इसे 31 जनवरी, 2013 से कम्पनी द्वारा जारी किया गया है जो सभी इकाइयों तथा निगम कार्यालय के कर्मचारियों पर लागू किया गया है। व्यक्तिगत प्रतिभा को कार्यशालाओं तथा संगोष्ठियों के माध्यम से उनके विचारों तथा सुझावों को साझा करने तथा उसका आदान-प्रदान करने के लिए एक मंच प्रदान किया गया है तथा सुअवसर दिया गया है जिससे मंच तथा प्रतिभागियों को अन्यत्र होने वाले समकालिन विकास कार्यक्रमों की अद्यतन जानकारी होगी।

कर्मचारी संतुष्टि सर्वे-2013

• कर्मचारी संतुष्टि सर्वे वर्ष 2012-13 मे संचालित किया गया तथा इसके लिए 5 बिन्दु लाइकर्टपैमाने पर एक ढांचागत प्रश्नावली को अपनाया गया। सभी नौ इकाइयों से 107 कर्मचारियों ने औचक सैम्पलों के माध्यम से इसमें भाग लिया जिनमें कार्यपालक, पर्यवेक्षक तथा कामगार शामिल थे। इस अध्ययन के विवरण से यह स्पष्ट हुआ कि सैम्पल के 80 प्रतिशत प्रतिभागी कम्पनी में संतुष्टि के स्तर को बहुत अधिक पसंद करते हैं।

कर्मचारी विनियोजन सर्वे-2014

• वर्तमान वर्ष 2014-15 के लिए कम्पनी ने कर्मचारी विनियोजन सर्वे की प्रक्रिया अपनाई है तथा एक ढाँचागत प्रश्नावली को डिजाइन किया गया तथा कर्मचारियों की प्रतिक्रियाओं के लिए इकाइयों को पहले ही प्रेषित किया गया। प्रश्नावली में (i) गर्व (ii) अंतर व्यैक्तिक संबंध (iii) संप्रेषण (iv) ज्ञान एवं विकास (v) पुरस्कार एवं मान्यता (vi) कार्य नियोजन(vii) कार्य परिवेश (viii) कार्य जीवन संतुलन। इसके आँकड़ों को एकत्रित करने का कार्य प्रगति में है जिसका विश्लेषण किया जाएगा तथा इस अध्ययन से प्राप्त परिणामों को मार्च 2015 तक कम्पनी में प्रदर्शित किया जाएगा।

• नौ इकाइयों में फैले अधिकारियों, पर्यवेक्षकों और श्रमिकों के बीच उत्तरदाताओं द्वारा संरचित प्रारूप में प्रदान किए गए इनपुट और विचारों के आधार पर अध्ययन के निष्कर्ष काफी उत्साहजनक थे। डेटा विश्लेषण से निकाले गए निष्कर्ष से पता चलता है कि SPMCIL कर्मचारी जुड़ाव में काफी उच्च स्तर पर पहुंच गया है क्योंकि अध्ययन से प्राप्त औसत सूचकांक 100 में से "83" है।

एसपीएमसीआईएल ने निगमीकरण की छोटी सी अवधि में लंबी यात्रा तय की है तथा व्यापक मा.सं. नीतियों तथा नियमों को सफलतापूर्वक तैयार किया है। इस कार्यान्वयन में सभी इकाईयों के प्रचालित मान्यता प्राप्त संघों से अधिकतम संभावित विचार-विमर्श करके प्रबंधन के अधिकारों से समझौता किए बिना यह मानव संसाधन के लिए बड़ी चुनौती थी। यह हमारा भरसक प्रयास रहा है कि एसपीएमसीआईएल ने निगम के तौर पर कंपनी में समान नीति एवं नियम लागू हों। इनमें से निम्नलिखित उल्लेखनीय हैं:

कार्मिक विशेष नीति

• भर्ती नियमावली
• निष्पादन प्रबंधन प्रणाली
• कार्यपालकों की पदोन्नति
• गैर कार्यपालकों की पदोन्नति नीति (विचार-विमर्श के अधीन)
• क्रमानुसार स्‍थानातंरण दिशा-निर्देश
• प्रशिक्षण एवं विकास
• पदारोहन नीति

प्रतिपूर्ति एवं हितलाभ

• वेतनमान
• महंगाई भत्ता
• मकान किराया भत्ता
• रात्रि कार्य भत्ता
• विशेष भत्ता
• समयोपरि भत्ता
• प्रोत्साहन योजना
• निष्पादन संबंधी वेतन

भत्ते एवं सुविधाएं

• कैफेटेरिया योजना
• यातायात भत्ता
• बाल शिक्षा भत्ता
• छुटटी यात्रा रियायत
• दूरभाष नीति
• एसपीएमसीआईएल यात्रा भत्ता/महंगाई भत्ता, 2010
• एसपीएमसीआईएल छुटटी नियमावली-2012
• गृह आबंटन नियमावली -2013 (अधिसूचित की जानी है)

ऋण एवं अग्रिम

• गृह निर्माण अग्रिम
• मोटर वाहन अग्रिम
• कम्प्यूटर अग्रिम
• त्यौहार अग्रिम

औद्योगिक संबंध

• एसपीएमसीआईएल शीर्ष द्विपक्षीय मंच
• इकाई विशेष परामर्श
• शिकायत निवारण प्रणाली
• एससी/एसटी कर्मचारियों से बातचीत
• सहभागी प्रबंधन
i. कार्य समिति
ii. गुणवत्ता क्रम

आचरण एवं अनुशासन

• अनुशासन के सामान्य सिद्धांत
• एसपीएमसीआईएल आचरण, अनुशासन एवं अपील नियमावली-2010

सांविधिक अनुपालन

• फैक्ट्री अधिनियम
• अनुबंध श्रम अधिनियम
• ईएसआई अधिनियम
• कर्मचारी प्रतिपूर्ति अधिनियम
• औद्योगिक विवाद अधिनियम
• सूचना अधिकार अधिनियम

सामाजिक सुरक्षा

• एसपीएमसीआईएल न्यास
i. कभनि न्यास, 1952
ii. साभनि न्यास, 1925
iii. 37 ए के अंतर्गत पेंशन न्यास
• एलआईसी बीमा कवरेज
• ईपीएस 1995 के अंतर्गत पेंशन
• ग्रेच्युटी का भुगतान
• एसपीएमसीआईएल कर्मचारी कल्याण निधि (अधिसूचित की जानी है)

कल्याणकारी उपाय

• एसपीएमसीआईएल चिकित्सा नीति-2012
• अनुकंपा नियुक्ति के स्थान पर एक मुश्त मुआवजा भुगतान योजना
• एसपीएमसीआईएल अनुकंपा नियुक्ति योजना-2012
• एसपीएमसीआईएल कर्मचारी सुझाव योजना-2012
• छोटे परिवार के मानदंड
• उच्‍च शिक्षा प्राप्ति योजना

कर्मचारियों से संपर्क

• सलाह एवं प्रशिक्षण
• खेल गतिविधियां
• सांस्कृतिक कार्यक्रम
• वार्षिक दिवस महोत्सव

मा.सं. बैंच मार्किंग परियोजना

• प्रज्ञान (प्रतिभा ज्ञान)

  • • एक समय था जब एक इकाई के कर्मचारियों को किसी अन्य इकाई को देखने और अपने समकक्ष कर्मियों और पर्यवेक्षकों के साथ मिलने-जुलने का शायद ही कोई अवसर मिलता था । आज निगमीकरण के बाद, न केवल इकाई प्रबंधन की ओर से बल्कि शीर्ष स्तर पर निगम कार्यालय प्रबंधन द्वारा भी, कर्मचारियों के साथ जुड़ना एक सतत् प्रक्रिया बन गई है ।
  • • विभिन्न इकाइयों में खेल-कूद प्रतिस्पर्धाएं आयोजित की जाती हैं जिसमें निगम कार्यालय और सभी नौ इकाइयाँ भाग लेती हैं तथा इनका उद्देश्य कर्मचारियों के बीच सद् भावना पैदा करना और संगठन के लिए आंतरिक नैतिक-मूल्य पैदा करना है ।
  • • कंपनी ने उस समय से कार्यात्मक उत्कृष्टता के लिए व्यक्तिगत कर्मचारियों और इकाइयों के लिए पुरस्कार प्रारंभ कर दिए हैं ।
  • • सबसे उत्कृष्ट प्रदर्शन करने वाली इकाइयों को निम्नलिखित वर्गों में चल-वैजयंती प्रदान की जाती है : (i) पर्यावरण एवं सुरक्षा (ii) ऊर्जा संरक्षण (iii) उत्पादकता (iv) प्रशिक्षण एवं विकास (v) राजभाषा (vi) सतर्कता।
  • • दिनांक 31 मार्च, 2012 को भारत सरकार टकसाल, कोलकाता की हीरक जयंती उत्सव एसपीएमसीआईएल के लिए गर्व का क्षण था । माननीय केंद्रीय वित्त मंत्री और अन्य राजकीय स्तर के मंत्रियों ने उपस्थित होकर इस स्मरणोत्सव की शोभा बढ़ाई ।
  • • वर्ष 2013-14 के दौरान, जनवरी 2013 में बैंक नोट मुद्रणालय, देवास में आयोजित की गई अंतर-इकाई बैडमिंटन प्रतियोगिता, जिसमें निगम कार्यालय और नौ इकाइयों की दस टीमों ने हिस्सा लिया था, में खेल-कूद प्रतिस्पर्धाओं का उत्साह दर्शनीय था ।
  • • एसपीएमसीआईएल ने 10 फरवरी, 2014 को मीडिया सेंटर, नई दिल्‍ली में अपना स्थापना दिवस मनाया, जहाँ मुख्‍य अतिथि के रुप में माननीय वित्‍त राज्‍य मंत्री श्री नमो नारायण मीना जी ने कर्मचारियों को संबोधित किया जो सबके लिए प्रेरणादायक था ।
  • कर्मचारियों के साथ जुड़ने की प्रथाओं को आगे बढ़ाते हुए संगठन में आंतरिक मूल्यों का निर्माण करने के लिए दिसंबर'14 में नासिक में एक इंटर यूनिट फुटबॉल टूर्नामेंट आयोजित किया गया था, जिसमें यूनिटों और कॉर्पोरेट कार्यालय की सभी दस टीमों ने भाग लिया था। एसपीएम, होशंगाबाद आईजीएम, कोलकाता को हराकर चैंपियन बना।
  • प्रबंधन टीम और कर्मचारी संघों के बीच शीर्ष स्तर के द्विदलीय प्रतिनिधि के बीच प्रदर्शनी फुटबॉल मैच ने संगठन के लिए बहुत अच्छा बनाया, जहां मंच के अध्यक्ष निदेशक (एचआर) ने भी खेला, एक के लिए प्रेरणा का एक बड़ा स्रोत था। और सभी।

• एक निगमित अस्तित्व के रूप में एसपीएमसीआईएल में कर्मचारियों के प्रशिक्षण एवं पुनर्प्रशिक्षण से क्षमता वर्द्धन करना एक महत्वपूर्ण प्राथमिकता थी। कार्यपालकों, पर्यवेक्षकों तथा कामगारों को मूल कार्यक्षेत्रों में प्रशिक्षित किया जाता है ताकि वे उत्पादन तथा उत्पादकता में वृद्धि करने के लिए उपलब्ध मशीनों पर अच्छी प्रकार से कार्य कर सके। कार्यपालकों तथा पर्यवेक्षकों के पारस्परिक कौशल का विकास भी कर्मचारियों के प्रशिक्षण का एक अभिन्न हिस्सा है।

• निगमीकरण के बाद निगम कार्यालय ने इकाइयों को मार्च 2008 में विस्तृत दिशा-निर्देश जारी कर एक रणनीतिक शुरुआत की थी जिसमें प्रशिक्षण की आवश्यकताओं को चिह्नित करने तथा इकाइयों में विशेषकर पर्यवेक्षकों तथा कामगारों के लिए उपलब्ध आंतरिक क्षमताओं के द्वारा वार्षिक प्रशिक्षण योजना के लिए आधारभूत मानदंड तैयार किए गए थे।

• फरीदाबाद स्थित राष्ट्रीय वित्तीय प्रबंधन संस्थान को प्रारंभ में एसपीएमसीआईएल के कार्यपालकों के लिए प्रशिक्षण केंद्र के रूप में चिह्नित किया गया। वर्ष 2009-10 में 32 कार्यपालकों को प्रशिक्षण दिया गया। वर्ष 2010-11 के दौरान 97 कार्यपालकों को प्रशिक्षण दिया गया। वर्ष 2011-12 के दौरान एनआईएफएम, फरीदाबाद परिसर में 84 कार्यपालकों को छ: दिवसीय प्रशिक्षण दिया गया। एनआईएफएम द्वारा कक्षाओं में संचालित कार्यपालक विकास कार्यक्रम (ईडीपी) केविभिन्न कार्यक्षेत्रों के सैद्धांतिक पहलूओं का व्यापक प्रशिक्षण दिया गया जिनमें प्रचालन तथा तकनीकी, सामग्री प्रबंधन, बिक्री एवं विपणन, सूचना प्रौद्योगिकी, वित्त तथा मानव संसाधन शामिल हैं।

• कंपनी के सभी पर्यवेक्षकों को विविध प्रकार के प्रचालानात्मक कार्य क्षेत्रों में प्रशिक्षण प्रदान करनेएवं उन्हें विकसित करने तथा कार्यस्थल पर कामगारों के साथ आपसी सामंजस्य कायम करने के लिए बुनियादी ढाँचा उपलब्ध होने के कारणचेरलापल्ली स्थित हैदराबाद टकसाल को कु्छ समय के लिए प्रशिक्षण केन्द्र बनाया गया है।

• एसपीएमसीआईएल की इकाइयाँ शॉप फ्लोर तथा संयंत्र स्तर पर कार्य कर रहे औद्योगिक कामगारों की प्रशिक्षण आवश्यकताओं और कौशल में कमियों का पता लगाती हैं।तदनुसार इकाइयाँ संरक्षा प्रशिक्षण सहित प्रशिक्षण योजनातथामाड्यूल तैयार करती हैं जिसमें बाहरी स्रोतों से कार्मिकों को नियोजित करसंगठन में आंतरिक व्यवस्था की जाती है।

• इस प्रक्रिया में इकाइयों से प्राप्त आंकड़ों के अनुसार वर्ष 2009-10 में 732 पर्यवेक्षकों और 6087 कामगारों को प्रशिक्षण दिया गया,वर्ष 2010-11 में 654 पर्यवेक्षकोंऔर 1418कामगारोंको प्रशिक्षण दिया गया, 2011-12 में 517पर्यवेक्षकों और 1278कामगारोंको प्रशिक्षण दिया गया, 2012-13 में 411पर्यवेक्षकों और 1289कामगारोंको प्रशिक्षण दिया गया तथा वर्ष 2013-14 में 487 पर्यवेक्षकों तथा 1372 कामगारों को प्रशिक्षण दिया गया।

• वर्ष 2011-12 के दौरान संचालित एसपीएमसीआईएल प्रशिक्षण कार्यक्रम का मैसर्स केपीएमजी द्वारा मूल्यांकन किया गया तथा केपीएमजी की रिपोर्ट से यह स्पष्ट था कि एसपीएमसीआईएल की नौ इकाइयों तथा निगम कार्यालय में कर्मचारियों के प्रशिक्षण एवं विकास के द्वारा कर्मचारियों में व्यापक संतोष कायम किया है तथा इसेएक प्रेरणात्मक स्रोत माना गया।

• वर्ष 2012-13 के दौरान एसएपी में प्रशिक्षण कम्पनी के लिए अत्यंत महत्वपूर्ण था जब एसएपी कौशल में 258 कर्मचारियों को प्रशिक्षण दिया गया।

• वर्ष 2013-14 के दौरान इंडस्ट्रीयल इंजीनियरिंग (एनआईटीआईई), मुम्बई में ''नेतृत्व विकास एवं टीम प्रबंधन कार्यक्रम'' विषय पर आयोजित 51/2 दिवसीय कार्यक्रम में 29 कार्यपालकों ने भाग लिया जिसे एसपीएमसीआईएल के कार्यपालकों के लिए तैयार किया गया था। भासट, हैदराबाद में ''निवारक रखरखाव'' विषय पर 25 कार्यपालकों को प्रशिक्षित किया गया। इस प्रशिक्षण को प्रदान करने के लिए आँध्रप्रदेश प्रोडक्टीविटी काउंसिल को विशेषज्ञ संस्था के रूप में चिहि्नत किया गया था। ''उद्यम जोखिम प्रबंधन तथा जोखिम निवारण'' पर लोक उद्यम संस्थान हैदराबाद द्वारा आयोजित प्रशिक्षण कार्यक्रम में 18 कार्यपालकों ने भाग लिया।

• वर्ष 2013-14 के समझौता ज्ञापन की प्रतिबद्धताओं के अनुसार 10 बिन्दु पैमाने पर कार्यक्रम प्रशिक्षण उपयोगिता सूचकांक इस प्रकार रहा (i) नेतृत्व विकास तथा टीम प्रबंधन (ii) निवारक रख-रखाव (iii) नई प्रौद्योगिकी का विकास तथा (iv) जोखिम प्रबंधन पर प्रशिक्षण दिया गया तथा इसे 7 से 10 तक श्रेणी दी गई। जिसके परिणामस्वरूप प्रशिक्षण के क्षेत्र में उत्कृष्ट समझौता ज्ञापन श्रेणी प्राप्त हुई।

• कंपनी द्वारा दिनांक 16.3.2010 को ‘’एसपीएमसीआईएल शीर्ष द्विपक्षीय मंच-2010 के नाम से एक पूर्ण विकसित मशीनरी के निर्माण को अधिसूचित किया गया है। इस मंच में संबंधित इकाई के मान्यता प्राप्त संघों से परामर्श करके कामगारों तथा स्टाफ की ओर से प्रतिनिधियों का चयन/नामांकन किया गया है। निदेशक (मा.सं.) इस मंच के अध्यक्ष हैं तथा इकाईयों के महाप्रबंधक प्रबंधन की ओर से सदस्य हैं।

• एसपीएमसीआईएल द्विपक्षीय मंच की प्रथम बैठक का दिनांक 26 अगस्‍त, 2010 को नासिक में आयोजन किया गया जो एसपीएमसीआईएल के निगमित जीवन में नए युग की शुरूआत थी जहां नौ इकाईयों के कामगारों, स्टाफ तथा संघ प्रतिनिधियों ने अध्‍यक्ष तथा प्रबंध निदेशक, निदेशकों तथा महाप्रबंधकों के साथ एक सौहार्दपूर्ण वातावरण में बातचीत हुई तथा इस बैठक ने संगठन के बेहतर भविष्य के लिए संघों तथा कर्मचारी प्रतिनिधियों के साथ सर्वोच्च परामर्शी मंच में प्रभावी विचार-विमर्श करने का रास्ता निर्धारित किया है।

• मंच का उद्देश्य कामगारों, कर्मचारी सदस्यों तथा संघ पदधारियों को कंपनी के शीर्ष प्रबंधन के साथ बातचीत के लिए एक सांझा मंच प्रदान करना है। यह मंच कई इकाईयों तथा संपूर्ण कंपनी के कर्मचारियों से संबंधित मामलों में चर्चा तथा विचार-विमर्श की सुविधा उपलब्ध कराता है। इकाई विशेष मामले संबंधित इकाई को ही निपटाने के लिए प्राधिकृत किए गए हैं।

• निगमीकरण के पश्चात इस संबंध में अधिसूचित नीति तथा निर्धारित उद्देश्यों के अनुसार आज त‍क शीर्ष द्विपक्षीय मंच की नौ बैठके सफलतापूर्वक आयोजित की गई हैं। यह मंच धीरे-धीरे सयुंक्त विचार-विमर्श के माध्यम से कंपनी को उन्नत करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभा रहा है।


1. कंपनी के व्यवसाय लक्ष्य को प्राप्त करने के लिए उपलब्ध मानव संसाधनों का अधिकतम उपयोग करना।

2. कार्यस्थल पर कर्मचारियों की आत्म दक्षता में वृद्धि करने के लिए उनके लिए अनुकूल वातावरण तैयार करना।

3. कुशलता निपुण कर्मचारियों की व्‍यक्तिगत उन्नति तथा कैरियर में प्रगति को प्राथमिकता प्रदान करना।

4. कर्मचारियों को औचित्यपूर्ण तथा पर्याप्त पारिश्रमिक तथा हितलाभों की प्रतिपूर्ति करना।

5. कार्यस्थल पर शांति एवं सौहार्द सुनिश्चित करने के लिए संघों के साथ मधुर तथा मैत्रीपूर्ण संबंध स्थापित करना।

6. विविध खेलकूद गतिविधियों तथा कल्याणकारी उपायों द्वारा प्रेरणा के स्तर तथा उच्च मनोबल को बनाए रखना।

7. कर्मचारियों की ईमानदारी तथा अनुशासन के साथ समझौता नही।

8. कंपनी के प्रति अपनेपन की भावना तैयार करने के लिए कार्य प्रकृति एवं संस्कृति को मन में धारण करना।

9. निष्पादन चालित संस्कृति का निर्माण करना जिसमें जिम्मेदारी सर्वोपरि रहेगी।

10. कंपनी के प्रति अपनेपन की भावना पैदा करने के लिए कार्य लोकाचार और संस्कृति को आत्मसात करें

11. मानव संसाधन की नई प्रथाओं को अपनाने के लिए उत्कृष्टता प्राप्त करना।

  • निगमीकरण से लेकर (संख्या में कमी)
  • कर्मचारियों की संख्या (इकाईवार)
  • एसपीएमसीआईएल कार्यपालक/पर्यवेक्षक/कामगार
  • निष्पादन एवं उत्पादन (मात्रा में वृद्धि)
  • बिक्री टर्न ओवर दोगुना हो चुका है
  • पीएटी प्रति कर्मचारी में वृद्धि की प्रवति

  • निगम की टकसालें, मुद्रणालय एवं कागज कारखाना
  • मानित प्रतिनियुक्ति
  • ऐतिहासिक समझौता
  • सामूहिक स्थानांतरण
  • मिशन सम्पन्न

स्वतंत्र बाहरी मॉनिटर्स

1. श्री अनिल कुमार, आईएएस (सेवानिवृत्त) ईमेल: anilsec1953@gmail.com

2. सुश्री निर्मल कौर, आईपीएस (सेवानिवृत्त)
ईमेल: nirmalkaur1983@gmail.com

सूचना